India News Agency
Begin typing your search above and press return to search.

Mainpuri: खेत में मगरमच्छ को देख गांव में मचा हड़कंप, वाइल्डलाइफ एसओएस ने किया रेस्क्यू

गुरुवार को एक मगरमच्छ नहर से निकलकर खेत में पहुंचा। मगरमच्छ को खेतों में देख ग्रामीण डर गए। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। वन्यजीव एसओएस को तब अधिसूचित किया गया था।

Mainpuri: खेत में मगरमच्छ को देख गांव में मचा हड़कंप, वाइल्डलाइफ एसओएस ने किया रेस्क्यू

IndiaNewsHindiBy : IndiaNewsHindi

  |  29 Oct 2022 10:32 AM GMT

मैनपुरी के बसवपुर गांव में गुरुवार को एक खेत में पांच फुट लंबा मगरमच्छ मिला. स्थानीय ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग के अधिकारियों को दी और तुरंत अपनी टीम को मौके पर भेजा. टीम ने घटना की जानकारी वाइल्डलाइफ एसओएस को दी। मौके पर पहुंची वाइल्डलाइफ एसओएस टीम ने मगरमच्छ को पकड़कर इटावा जिले में ले जाकर चंबल नदी में छोड़ दिया.

बसवपुर गांव से करीब दो किलोमीटर दूर एक नहर है। बताया जाता है कि गुरुवार को एक मगरमच्छ नाले से निकला और खेत में पहुंच गया. मगरमच्छ को खेत में देख ग्रामीण डर गए। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। उन्होंने आगरा से वाइल्डलाइफ एसओएस रैपिड रिस्पांस यूनिट बुलाई और मगरमच्छ को पकड़ लिया।

रेस्क्यू एक घंटे तक चला

देर रात तीन सदस्यीय टीम मौके पर पहुंची और बचाव कार्य शुरू किया। सभी सावधानी बरतते हुए टीम ने सावधानी से एक सुरक्षा जाल का उपयोग करके मगरमच्छ को पकड़ लिया। घंटे भर चले रेस्क्यू ऑपरेशन में मगरमच्छ को बरामद कर लिया गया, जिसे बाद में वन अधिकारियों की मौजूदगी में इटावा जिले की चंबल नदी में छोड़ दिया गया।

ग्रामीणों का मिला सहयोग

वाइल्डलाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ कार्तिक सत्यनारायण ने कहा कि कई लोग अभी भी गांव में मगरमच्छों को देखकर घबरा जाते हैं। उसे चोट पहुँचाने की कोशिश करो। हालांकि इस मामले में ग्रामीणों का काफी सहयोग रहा। सूचना मिलने पर उन्होंने मगरमच्छ को पकड़ लिया। यह उस प्रभाव को दर्शाता है जो जागरूकता और शिक्षा का हो सकता है।

वन्यजीव एसओएस निदेशक संरक्षण परियोजना बैजुराज एमवी ने कहा कि मगरमच्छ ज्यादातर मीठे पानी के क्षेत्रों जैसे नदियों, झीलों, गांव के तालाबों और मानव निर्मित जलाशयों में पाए जाते हैं। ऐसे में जरूर मगरमच्छ नाले से निकलकर गांव में घुसा होगा। उसे गिरफ्तार कर चंबल नदी में छोड़ दिया गया।

Next Story