India News Agency
Begin typing your search above and press return to search.

टाटा स्टील ने 'वंदे भारत' ट्रेन के लिए बनाई है बेहद खास सीट, खासियत जानकर हैरान रह जाएंगे आपI

घरेलू स्टील कंपनी टाटा स्टील सितंबर से अत्याधुनिक ट्रेन 'वंदे भारत' में विशेष सीटों की आपूर्ति शुरू करने जा रही

’वंदे भारत’ ट्रेन के लिए टाटा स्टील ने बनाई बेहद स्पेशल सीट, खासियत जान रह जाएंगे दंग

Indianews@agencyBy : Indianews@agency

  |  2022-07-31T22:48:26+05:30

’वंदे भारत’ ट्रेन के लिए टाटा स्टील ने बनाई बेहद स्पेशल सीट, खासियत जान रह जाएंगे दंग

घरेलू स्टील कंपनी टाटा स्टील सितंबर से अत्याधुनिक ट्रेन 'वंदे भारत' में विशेष सीटों की आपूर्ति शुरू करने जा रही है। यह देश में अपनी तरह का पहला सीट सिस्टम होगा। टाटा स्टील के उपाध्यक्ष (प्रौद्योगिकी और नई सामग्री व्यवसाय) देबाशीष भट्टाचार्य ने पीटीआई से बातचीत में यह जानकारी देते हुए कहा कि कंपनी के कंपोजिट डिवीजन को वंदे भारत एक्सप्रेस की 22 ट्रेनों में सीट उपलब्ध कराने का आदेश मिला है. इस ऑर्डर की कीमत करीब 145 करोड़ रुपए है।

यह सीट 180 डिग्री तक घूम सकती है
भट्टाचार्य ने कहा, “ये विशेष रूप से डिजाइन की गई सीटें हैं। ये 180 डिग्री तक घूम सकते हैं और इनमें प्लेन सीट जैसी सुविधाएं दी गई हैं। यह ट्रेन सीट भारत में अपनी तरह की पहली आपूर्ति है। इन सीटों की आपूर्ति सितंबर से शुरू होकर 12 महीने में पूरी हो जाएगी।
वंदे भारत ट्रेनों के लिए डिजाइन की गई ये सीटें फाइबर रीइन्फोर्स्ड पॉलीमर (एफआरपी) से बनी हैं और इनकी मेंटेनेंस कॉस्ट भी काफी कम होगी। यह सुविधाजनक होने के साथ-साथ यात्रियों की सुरक्षा बढ़ाने में भी योगदान देगा। पूरी तरह से घरेलू रूप से विकसित वंदे भारत ट्रेन 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। यह देश की सबसे तेज चलने वाली ट्रेनों में से एक है।

3,000 करोड़ रुपये खर्च करने की तैयारी में टाटा समूह
भट्टाचार्य ने कहा कि टाटा स्टील 2025-26 तक अनुसंधान और विकास गतिविधियों पर 3,000 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बना रही है। यह टाटा स्टील को 2030 तक वैश्विक स्तर पर शीर्ष पांच स्टील कंपनियों में ले जाने के लक्ष्य का हिस्सा है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कंपनी अनुसंधान और विकास पर काफी ध्यान दे रही है।
उन्होंने कहा कि टाटा स्टील महाराष्ट्र के खोपोली में सैंडविच पैनल बनाने के लिए एक नया संयंत्र स्थापित कर रही है, जिसमें नीदरलैंड की एक कंपनी तकनीकी भागीदार है। इस संयंत्र में निर्मित सैंडविच पैनल का उपयोग रेलवे और मेट्रो के डिब्बों में आंतरिक सज्जा के लिए किया जाएगा।

हिन्दी में देश दुनिया भर कि ताजा खबरों के लिए लिंक पर क्लिक करें india News.Agency

Next Story