India News Agency
Begin typing your search above and press return to search.

TATA कंपनी अब Bisleri पानी की कम्पनी को खरीद रही है, जानिए क्या बदलाव होगा कंपनी में

बिसलेरी की वेबसाइट के मुताबिक, बोतलबंद पानी के कारोबार में कंपनी की 60 फीसदी हिस्सेदारी है। बिसलेरी के पास वर्तमान में 122 से अधिक चालू संयंत्र हैं।

TATA कंपनी अब Bisleri पानी की कम्पनी को खरीद रही है, जानिए क्या बदलाव होगा कंपनी में

IndiaNewsHindiBy : IndiaNewsHindi

  |  24 Nov 2022 6:37 AM GMT

टाटा समूह जल्द ही बोतलबंद पानी भी बेचेगा। द इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट है कि टाटा समूह देश के प्रमुख बोतलबंद पानी रिटेलर बिसलेरी का अधिग्रहण करने के लिए तैयार है। टाटा समूह अपनी सहायक कंपनी टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड (TCPL) के तहत 6,000-7,000 करोड़ रुपये में बिसलेरी इंटरनेशनल का अधिग्रहण करेगा। सौदे के तहत बिसलेरी का वर्तमान प्रबंधन दो साल तक कंपनी के संचालन की देखरेख करेगा।

बोतलबंद पानी में 60% बाजार हिस्सेदारी

बिसलेरी की वेबसाइट के मुताबिक बोतलबंद पानी के कारोबार में कंपनी की 60 फीसदी हिस्सेदारी है। बिसलेरी में वर्तमान में 122 से अधिक चालू संयंत्र हैं। इसके अलावा, इसका 4,500 से अधिक का वितरक नेटवर्क है और इसके वितरण के लिए भारत में 5,000 ट्रक हैं। मिनरल वाटर के अलावा, बिसलेरी इंटरनेशनल प्रीमियम हिमालयी झरनों का पानी भी बेचता है। बता दें कि देश में बोतलबंद पानी का बाजार 20 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का है। टाटा के साथ डील के बाद टाटा ग्रुप एंट्री-लेवल, मिड-सेगमेंट और प्रीमियम पैकेज्ड वॉटर कैटेगरी में होगा। यह टैट ग्राहक आसानी से बड़ा बाजार हासिल कर लेंगे।

उन्होंने एक दवा कंपनी से शुरुआत की

आज बोतलबंद पानी बेचने वाली कंपनी बिसलेरी ने मलेरिया की दवा बेचने वाली दवा कंपनी के रूप में शुरुआत की। इसकी स्थापना इटली के व्यवसायी फेलिस बिसलेरी ने की थी। उनकी मृत्यु के बाद, उनके परिवार के चिकित्सक रॉसी ने बिसलेरी को चालू रखने की जिम्मेदारी संभाली। भारत में डॉ॰ रॉसी ने वकील ख़ुशरू संतकुर के साथ मिलकर बिसलेरी को लॉन्च किया। बिसलेरी वाटर प्लांट की शुरुआत के 4 साल बाद 1969 में रमेश चौहान ने बिसलेरी को केवल 4 लाख रुपये में खरीदा था। तब से, कंपनी का स्वामित्व रमेश चौहान के पास है। रमेश चौहान 82 साल के हैं। उनकी बेटी जयंती को व्यवसाय में कोई दिलचस्पी नहीं है। इसलिए वे अब इस बिजनेस को बेचना चाहते हैं।

Next Story