अब इन लोगों को आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन सुरक्षा योजना के तहत पांच लाख का स्वास्थ्य बीमा भी मिलेगा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन सुरक्षा योजना (पीएमजेवाई) के तहत ट्रांसजेंडरों को 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा देने का फैसला किया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के बीच बुधवार को इस संबंध में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। समझौते के तहत सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ट्रांसजेंडरों के स्वास्थ्य बीमा का खर्च वहन करेगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने संवाददाताओं को बताया कि इस योजना के तहत वर्तमान में पंजीकृत 4.80 लाख ट्रांसजेंडरों को स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी. इन ट्रांसजेंडरों को पहले ही सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा पंजीकृत किया जा चुका है और उनकी सूची आयुष्मान भारत योजना में शामिल की गई है। योजना का लाभ लेने के लिए ट्रांसजेंडरों को अब सीधे राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण से अपना आयुष्मान भारत कार्ड बनवाना होगा।

यह पूछे जाने पर कि अगर पहले से पंजीकृत ट्रांसजेंडर के अलावा कोई ट्रांसजेंडर योजना का लाभ लेना चाहता है तो उसे क्या करना होगा, उन्होंने कहा कि पहले उन्हें खुद को सामाजिक न्याय मंत्रालय में पंजीकृत कराना होगा। उसके बाद उनका नाम अपने आप राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण में आ जाएगा।