एयरलाइन कंपनियां देंगी विदेश जाने वाले यात्रियों की डिटेल, सरकार की नई गाइडलाइन

देश में आने या देश से बाहर जाने वाले यात्रियों को लेकर केंद्र सरकार ने एक अहम नोटिफिकेशन जारी किया है. सरकार ने एयरलाइंस से सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के संपर्क, पीएनआर विवरण और भुगतान विवरण को सीमा शुल्क अधिकारियों के साथ उड़ानों के प्रस्थान से 24 घंटे पहले साझा करने के लिए कहा है। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड ने ‘यात्री नाम रिकॉर्ड सूचना विनियम, 2022’ को अधिसूचित करते हुए एयरलाइन कंपनियों से अनिवार्य रूप से इसका अनुपालन करने को कहा है।

क्या है कारण: इसका मकसद यात्रियों का ‘जोखिम विश्लेषण’ करना है ताकि आर्थिक और अन्य अपराधियों को देश से भागने से रोका जा सके. इसके साथ ही यह प्रावधान तस्करी जैसी किसी भी तरह की अवैध गतिविधियों को रोकने में मदद करेगा। इसके साथ ही भारत अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रियों का पीएनआर विवरण एकत्र करने वाले 60 देशों की सूची में शामिल हो गया है।

जरूरी होगा रजिस्ट्रेशन: सरकारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि इस नियम का पालन करने के लिए हर एयरलाइन कंपनी को कस्टम डिपार्टमेंट में रजिस्ट्रेशन कराना होगा. कंपनियों को भारत आने-जाने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की जानकारी देनी होगी। इस जानकारी में यात्री का नाम, बिलिंग/भुगतान की जानकारी (क्रेडिट कार्ड नंबर), टिकट जारी करने की तारीख के साथ-साथ उसी पीएनआर टिकट पर यात्रा करने वाले अन्य लोगों के नाम भी शामिल होंगे।

इस नियम का पालन करने में विफलता के परिणामस्वरूप एयरलाइन को प्रत्येक उल्लंघन के लिए न्यूनतम 25,000 रुपये और अधिकतम 50,000 रुपये का जुर्माना देना होगा। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर यात्रियों से जुड़ी जानकारी अन्य कानूनी एजेंसियों के साथ भी साझा की जा सकती है।