India News Agency
Begin typing your search above and press return to search.

दांत दर्द ही नहीं त्वचा संबंधी समस्याओं में भी कारगर है लौंग का तेल, जानिए इसके 6 फायदेI

सालों से आयुर्वेद और मां के नुस्खे में इस्तेमाल होने वाले असरदार उपायों में से एक है लौंग का तेल।

दांत दर्द ही नहीं त्वचा संबंधी समस्याओं में भी कारगर है लौंग का तेल, जानिए इसके 6 फायदेI

Indianews@agencyBy : Indianews@agency

  |  2022-08-04T14:35:18+05:30

सालों से आयुर्वेद और मां के नुस्खे में इस्तेमाल होने वाले असरदार उपायों में से एक है लौंग का तेल। लौंग के तेल का इस्तेमाल कई तरह की आयुर्वेदिक दवाओं को बनाने में किया जाता है और यह अपने आप में एक औषधि के रूप में भी काम करता है। यह लौंग के पेड़ों से प्राप्त होता है। वहीं इसमें मौजूद सभी पोषक तत्व आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं से निजात दिलाने में मदद कर सकते हैं।

रोगाणुरोधी गतिविधि से लेकर कैंसर रोधी गुणों तक, इसके गुणों में और वृद्धि होती है। यही कारण है कि लौंग का तेल एलर्जी, संक्रमण, दांत दर्द, सर्दी-खांसी और पाचन संबंधी समस्याओं में बहुत फायदेमंद होता है।

  1. त्वचा की सेहत के लिए फायदेमंद
    लौंग के तेल में यूजेनॉल नामक यौगिक पाया जाता है, जिसमें जीवाणुरोधी गुण होते हैं। यह यौगिक मुंहासों को ठीक करने, सूजन को कम करने और संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है।नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, त्वचा पर इसके प्रयोग से लंबे समय से चली आ रही खुजली से राहत मिलती है। इसके साथ ही यह बढ़ती उम्र की समस्या जैसे झुर्रियों और त्वचा का झड़ना आदि में भी कारगर है। वहीं आयुर्वेद में पाचन से जुड़ी समस्याओं में इसका इस्तेमाल सालों से किया जा रहा है। स्वस्थ त्वचा के लिए पेट का स्वस्थ होना भी बहुत जरूरी है।
  1. प्रतिरक्षा बढ़ाएँ
    लौंग के तेल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर से कैंसर और हृदय रोग पैदा करने वाले फ्री रेडिकल्स को दूर रखने में मदद करते हैं। इसमें मौजूद पोषक तत्व शरीर में श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाते हैं और इस प्रकार प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ावा मिलता है।
  2. दांत दर्द को दूर करता है
    नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, लौंग का तेल दांतों के क्षरण को रोकता है। ये क्षरण बाद में गुहाओं की ओर ले जाते हैं। पब मेड सेंट्रल द्वारा किए गए 2016 के एक अध्ययन में मौखिक गुहा का कारण बनने वाले कीटाणुओं को मारने के लिए 10 प्राकृतिक पौधों से विभिन्न प्रकार के पदार्थ लिए गए। इन सभी पदार्थों में लौंग का तेल सबसे कारगर साबित हुआ।

लगभग सभी नियमित टूथपेस्ट में लॉन्ग का इस्तेमाल किया जाता है। लौंग में मौजूद यूजेनॉल दांत दर्द जैसी समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है। अगर आप अब दांत दर्द से परेशान हैं तो एक रुई के फाहे पर लौंग का तेल लगाकर उस दांत पर लगाएं जहां दर्द हो रहा हो। इसके साथ ही गर्म पानी में लौंग का तेल मिलाकर गरारे करें। ऐसा करने से सांसों की दुर्गंध से छुटकारा मिलेगा।

4. संक्रमण से राहत दिलाने में मददगार
लौंग में मौजूद एंटीसेप्टिक गुण लौंग के तेल को बेहद खास बनाते हैं। इसका उपयोग त्वचा में कटौती और घावों, फंगल संक्रमण और कीड़े के काटने के लिए भी किया जाता है। हालांकि, घाव पर सीधे लौंग का तेल न लगाएं। ये आपके लिए बहुत ही दर्दनाक हो सकता है। लेकिन इसे नारियल के दूध में मिलाकर लगाया जा सकता है।

5. सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं में फायदेमंद

लौंग के तेल में मौजूद उच्च विरोधी भड़काऊ गुण गले में खराश, सर्दी, खांसी और साइनस जैसी समस्याओं में बहुत फायदेमंद होते हैं। अगर आपको लगातार खांसी हो रही है तो लौंग का तेल मौखिक रूप से लें। खांसी अपने आप दूर हो जाएगी।

6. सिरदर्द में राहत देता है
अगर आप भी सिर दर्द से परेशान हैं तो अपने किचन में मौजूद इस खास सामग्री की मदद से आप इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं। लौंग में मौजूद फ्लेवोनॉयड और इंफ्लेमेटरी एजेंट गुण शरीर को ठंडा रखने में मदद करते हैं। इसके साथ ही यह मांसपेशियों के दर्द और जोड़ों के दर्द के लिए काफी कारगर माना जाता है।

Next Story