कृष्णा भक्ति ने जीता कॉमनवेल्थ मेडल: भारत की प्रियंका गोस्वामी ने पोस्ट की लड्डू गोपाल के साथ फोटो, बोलीं- भगवान को समर्पित है ये मेडल

देश से हजारों किलोमीटर दूर इंग्लैंड में शनिवार को भक्ति की शक्ति दिखाई दी। भारतीय एथलीट प्रियंका गोस्वामी ने महिलाओं की 10,000 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता। मेडल समारोह के बाद प्रियंका अपने प्यारे लड्डू गोपाल की मूर्ति के साथ नजर आईं. उन्होंने कहा- यह पदक भगवान कृष्ण और मेरे परिवार को समर्पित है। उनके सहयोग के बिना यह सफलता संभव नहीं होती।

प्रियंका ने 49 मिनट 38 सेकेंड में दौड़ पूरी की
प्रियंका ने 10,000 मीटर वॉक रेस में 49 मिनट 38 सेकेंड में दूसरा स्थान हासिल किया। वहीं ऑस्ट्रेलिया की जेमिमा ने 42.34 मिनट का समय निकालकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। वहीं, केन्या की एमिली 43.50.86 मिनट में तीसरे स्थान पर रही। तेजस्विन के ऊंची कूद में कांस्य और मुरली श्रीशंकर के रजत पदक के बाद राष्ट्रमंडल खेलों में एथलेटिक्स में यह भारत का तीसरा पदक है।

रेलवे में काम करती हैं प्रियंका
प्रियंका रेलवे में काम करती है। वह मूल रूप से मेरठ की रहने वाली हैं। उन्होंने 20 किलोमीटर वॉक रेस में देश के लिए कई मेडल जीते हैं. उन्होंने 2021 में टोक्यो ओलंपिक में भी देश का प्रतिनिधित्व किया था।

पिता रोडवेज कंडक्टर
प्रियंका के पिता मदनपाल गोस्वामी यूपी रोडवेज में कंडक्टर का काम करते थे। लेकिन किसी कारण से उनकी नौकरी चली गई। जिसके बाद घर की आर्थिक स्थिति खराब हो गई। प्रियंका ने अपनी स्कूली शिक्षा गर्ल्स स्कूल और बीके माहेश्वरी, मेरठ से पूरी की। पटियाला में बीए की पढ़ाई की। इस दौरान उनके पिता टैक्सी, आटा चक्की और छोटे-मोटे मजदूरों को चलाकर 4 से 5 हजार रुपये भेजते थे।