India News Agency
Begin typing your search above and press return to search.

कॉमनवेल्थ गेम्स: भारत की हॉकी टीमें कॉमनवेल्थ गेम्स से हटी, ब्रिटेन को दिया करारा जवाब

नई दिल्ली। भारत मंगलवार को 2022 बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों की हॉकी प्रतियोगिता से कोविड-19 से संबंधित चिंताओं और देश के

कॉमनवेल्थ गेम्स: भारत की हॉकी टीमें कॉमनवेल्थ गेम्स से हटी, ब्रिटेन को दिया करारा जवाब

Indianews@agencyBy : Indianews@agency

  |  2022-08-06T22:10:02+05:30

नई दिल्ली। भारत मंगलवार को 2022 बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों की हॉकी प्रतियोगिता से कोविड-19 से संबंधित चिंताओं और देश के यात्रियों के प्रति ब्रिटेन के भेदभावपूर्ण संगरोध नियमों के कारण हट गया। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानंद्रो निंगोबम ने फेडरेशन के फैसले से भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा को अवगत करा दिया है। इस फैसले के पीछे ब्रिटेन का भारत के प्रति दोहरा रवैया भी अहम माना जा रहा है। ब्रिटेन ने एक दिन पहले भारत में अगले साल होने वाले जूनियर हॉकी विश्व कप से हटने का फैसला किया था। भारत के फैसले को जवाब माना जा रहा हैI

हॉकी इंडिया ने कहा है कि बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों (28 जुलाई से 8 अगस्त) और हांग्जो एशियाई खेलों (10-25 सितंबर) के बीच केवल 32 दिनों का अंतर है और वे अपने खिलाड़ियों को यूके भेजकर जोखिम नहीं लेना चाहते हैं, जो कोरोनावायरस महामारी से प्रभावित है। इसे सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में शामिल किया गया है। निंगोबम ने लिखा, 'एशियाई खेल 2024 पेरिस ओलंपिक खेलों के लिए महाद्वीपीय योग्यता प्रतियोगिता है और एशियाई खेलों की प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए हॉकी इंडिया राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान भारतीय टीमों के किसी भी खिलाड़ी के कोविड-19 से संक्रमित होने का जोखिम नहीं उठा सकती है।.'

वैक्सीन के बाद भी क्वारंटाइन का नियम बनाया गया

ब्रिटेन ने हाल ही में भारत के कोविड-19 टीकाकरण प्रमाणपत्रों को मान्यता देने से इनकार कर दिया था और पूर्ण टीकाकरण के बावजूद देश से आने वाले यात्रियों के लिए सख्त 10-दिवसीय संगरोध अनिवार्य कर दिया था। हॉकी इंडिया का यह कदम इंग्लैंड के भुवनेश्वर में अगले महीने होने वाले एफआईएच पुरुष जूनियर विश्व कप से हटने के एक दिन बाद आया है, जिसमें कोविड-19 पर चिंताओं और ब्रिटेन के सभी नागरिकों के लिए 10 दिन के क्वारंटाइन को अनिवार्य करने के भारत सरकार के फैसले का हवाला दिया गया है। है।

भारत ने भी लगाई थी पाबंदियां

ब्रिटेन के प्रतिबंधों के बाद, भारत ने भी ब्रिटेन के नागरिकों के देश में आने पर इसी तरह के प्रतिबंध लगाए। भारत के नए नियमों के तहत, ब्रिटेन से यहां आने वाले उसके सभी नागरिकों को, उनकी टीकाकरण की स्थिति की परवाह किए बिना, यात्रा के 72 घंटे के भीतर आरटी-पीसीआर परीक्षण का परिणाम दिखाना होगा। भारत पहुंचने पर उनका एयरपोर्ट पर और फिर आठवें दिन दो और आरटी-पीसीआर टेस्ट होंगे।

Next Story