सचिन पायलट को रोकने की अशोक गहलोत की योजना, CM की दौड़ में CP जोशी समेत ये 5 नाम

शोक गहलोत बैकफुट पर जरूर आए हैं, लेकिन सचिन पायलट को सीएम बनने से रोकने के लिए वह पूरे मैदान को सजा रहे हैं. उन्होंने सोनिया गांधी को सीएम के तौर पर सीपी जोशी का नाम सुझाया है.

सचिन पायलट को रोकने की अशोक गहलोत की योजना, CM की दौड़ में CP जोशी समेत ये 5 नाम

अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ने के लिए राजी हो गए हैं, लेकिन अब भी उनका राजस्थान के प्रति आकर्षण कम नहीं हो रहा है. राहुल गांधी के ‘एक व्यक्ति एक पद’ के फॉर्मूले पर अड़े रहने से अशोक गहलोत बैकफुट पर जरूर आ गए हैं, लेकिन सचिन पायलट को सीएम बनने से रोकने के लिए वह सारी फील्डिंग कर रहे हैं. चर्चा है कि उन्होंने सीएम के तौर पर सोनिया गांधी को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी का नाम सुझाया है. हालांकि, इसके अलावा भी उनके पास कई ऐसे नाम हैं, जिनसे वो पायलट की फ्लाइट को रोक सकते हैं. इन नामों में रघु शर्मा और बीडी कल्ला का भी जिक्र है. ये दोनों नेता भी सीपी जोशी की तरह ब्राह्मण समुदाय से आते हैं और गहलोत गुट के प्रभावशाली नेताओं में से हैं.

इन नेताओं के अलावा शांति लाल धारीवाल का नाम भी चर्चा में है, जो वैश्य समुदाय से आते हैं. शांति लाल धारीवाल अशोक गहलोत के करीबी हैं और एक प्रभावशाली नेता हैं। राज्य की राजनीति में धारीवाल की अच्छी पकड़ है और उनके जरिए अशोक गहलोत राजस्थान में अपना वर्चस्व कायम रखना चाहेंगे. हालांकि राजस्थान कांग्रेस के अंदर परसादी लाल मीणा के नाम पर भी चर्चा चल रही है। इसका कारण यह है कि एसटी समुदाय, जिसकी राजस्थान में आबादी 13 प्रतिशत है, दलितों के बाद दूसरा सबसे बड़ा मतदाता समूह है।

इतना ही नहीं इस एसटी वर्ग में सबसे ज्यादा संख्या मीना बिरादरी की है, जो राज्य में 7 फीसदी है. ऐसे में अशोक गहलोत सामाजिक समीकरणों को सुलझाने की बात करते हुए परसादी लाल मीणा के नाम का प्रस्ताव भी रख सकते हैं. यहां तक ​​कि आलाकमान को भी इस पर आपत्ति नहीं हो सकती है। इसके अलावा सचिन पायलट समूह भी उनका विरोध नहीं कर पाएगा और ऐसा करने पर एसटी समुदाय से नाराजगी का खतरा होगा। आपको बता दें कि अशोक गहलोत की सचिन पायलट से रंजिश मानी जाती है और अब तक अशोक गहलोत सचिन पायलट के नाम पर कोई जवाब देने से बचते रहे हैं.